Advertisement

वास्तु टिप्स

गृह निर्माण के लिए जरूरी है 'वास्तु शास्त्र'

आगे पढ़ें

वास्तु शास्त्र का इतिहास उतना ही पुरातन है, जितना सनातन धर्म के वैदिक युग का| परंतु समय के साथ वह नेपथ्य में नहीं गया बल्कि उसकी प्रासंगिकता अधिक बढ़ गई है|..

दोष निवारण में है वास्तु विज्ञान की विश्वसनीयता

आगे पढ़ें

ई-मेल के माध्यम से रवीन्द्र मंगल ने जानना चाहा है कि दक्षिण-पूर्व के पूर्वी भाग में स्थित उनके घर के मुख्य द्वार को बिना बदले इस वास्तु दोष का क्या समाधान हो सकता है? उनके ई-मेल से यह स्पष्ट नहीं है कि उपरोक्त द्वारा मुख्य भवन का है अथवा कम्पाउण्ड वाल का. अतः मैने इनसे नक्शे सहित विस्तार से लिखने को कहा है ताकि यथासंभव उचित मार्गदर्शन दिया जा सके. वैसे रवीन्द्रजी, इसी कालम में मुख्य प्रकरण के अन्तर्गत यथासमय दिशा विशेष की ओर अभिमुख द्वारों के गुणावगुण के बारें में विस्तार से उल्लेख करेंगे परंतु ..